डीएनए एक्सक्लूसिव: मेट्रो शहरों में बाढ़ के लिए हमारा ‘डेड सिस्टम’ कैसे जिम्मेदार है इसका विश्लेषण


भारत के साइबर सिटी गुरुग्राम में पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश के कारण शहर के कई हिस्सों में जलभराव और बड़े पैमाने पर ट्रैफिक जाम हो गया है। गुरुग्राम की जलमग्न सड़कों के वीडियो से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भारी आक्रोश है। नागरिक स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट और चंद घंटों की बारिश से हुए नुकसान को नियंत्रित करने में सिस्टम की विफलता को लेकर गंभीर सवाल उठा रहे हैं। सिस्टम की ही गलती है कि लोग इन जलजमाव वाली सड़कों और ट्रैफिक जाम पर यात्रा करके अपनी जान जोखिम में डालने को मजबूर हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि सिस्टम देश के शहरों को बारिश के पानी में डूबने से क्यों नहीं रोकता?

आज के डीएनए में, Zee News के रोहित रंजन विश्लेषण करेंगे कि देश में भारी बाढ़ वाले मेट्रो शहरों के लिए हमारे सिस्टम का लापरवाह रवैया कैसे जिम्मेदार है।

यदि सिस्टम बरसात के मौसम में जलभराव की समस्या से निपटता तो लोगों को इन समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता। बारिश के पानी में लगे ट्रैफिक जाम की इन तस्वीरों को देखकर इसे सिस्टम की नाकामी न समझें. क्योंकि ऐसे जाम हमारे देश में स्मार्ट सिटी की पहचान हैं। जिसके लिए बरसात के मौसम की जरूरत नहीं होती है। क्या आपने कभी किसी गांव या देहात में ऐसा जाम देखा है?

लेकिन अगर आप सिस्टम को पसंद करते हैं तो भी आप हमारी बात को नहीं समझते हैं। और आपको आश्चर्य है कि क्या हुआ?

नागरिकों को समझना चाहिए कि व्यवस्था ही भ्रष्टाचार और लापरवाही की व्यवस्था में डूबी हुई है। जब सिस्टम खुद को बारिश के पानी में डूबने से नहीं बचा पाएगा तो पूरे शहर को कैसे बचाएगा?

इसलिए सिस्टम को कोसना बंद करने की सिफारिश की जाती है क्योंकि यह पहले से ही मर चुका है।

अधिक गहन जानकारी और अन्य विवरणों के लिए कृपया आज रात डीएनए का विशेष संस्करण देखें।



Author: admin

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Posting....