महाराष्ट्र के CM उद्धव ठाकरे ने हाईलेवल मीटिंग बुलाई; फडणवीस और राज ठाकरे के साथ सरकार में शामिल कांग्रेस ने भी देशमुख का इस्तीफा मांगा

एंटीलिया केस की सियासी आंच बढ़ती ही जा रही है। शनिवार शाम मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की चिट्‌ठी के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर इस्तीफा देने का दबाव बढ़ता जा रहा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने देर रात अपने सरकारी बंगले पर हाईलेवल मीटिंग बुलाई। मीटिंग में महाविकास अघाड़ी (MVA) गठबंधन के नेताओं के शामिल होने की बात कही जा रही है। हालांकि, दावा ये भी किया जा रहा है कि बैठक में मुख्य सचिव और अन्य आला अधिकारी भी शामिल हैं। उधर, मुंबई में गृहमंत्री अनिल देशमुख के सरकारी आवास पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि इस बैठक में गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगे गंभीर आरोपों पर चर्चा हो रही है। सरकार पर विपक्ष के हमले रोकने के लिए उनसे इस्तीफा देने को भी कहा जा सकता है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, मनसे प्रमुख राज ठाकरे और कांग्रेस के राशिद अल्वी ने चिट्ठी सामने आने के बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा मांगा है।

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का बड़ा आरोप- महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वझे से हर महीने 100 करोड़ रु. मांगे थे

परमबीर के ईमेल की होगी जांच: राज्य सरकार
इधर, गृह मंत्री देशमुख की इस्तीफे की मांग के बीच महाराष्ट्र सरकार की तरफ से पहला आधिकारिक बयान आया है। इसमें कहा गया है कि परमबीर सिंह द्वारा भेजा गया पत्र आज दोपहर 4.37 बजे email से paramirs3@gmail.com प्राप्त हुआ है। यह ईमेल परमबीर सिंह का है या नहीं है इसकी जांच की जा रही है। परमबीर सिंह का आधिकारिक ईमेल ऐड्रेस parimbirs@hotmail.com है। इसलिये इस मामले की जांच जरूरी है।

फडणवीस ने देशमुख से मांगा इस्तीफा
परमबीर सिंह की चिट्ठी के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘चिट्ठी में जो आरोप लगाए हैं, वे अत्यंत गंभीर हैं। मैं तो ऐसा मानता हूं कि जिलेटिन की जो स्टिक मिली हैं, उससे भी ज्यादा विस्फोटक ये आरोप हैं। विशेष रूप से इन आरोपों की गंभीरता इसलिए भी बड़ी है, क्योंकि ये आरोप एक सर्विंग DG ने लगाए हैं। इन आरोपों की पुष्टि के लिए उन्होंने वॉट्सऐप चैट और s.m.s. चैट साथ में संलग्न किए हैं। वॉट्सऐप चैट में साफ पता चल रहा है कि कितने पैसे कब और और कैसे जमा करने हैं। मैं मानता हूं कि यह बहुत बड़ा एविडेंस है। हमारी मांग है कि गृह मंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए।’

गृह मंत्री इस्तीफा न दें, तो CM उन्हें हटाएं
फडणवीस ने कहा, ‘अगर देशमुख इस्तीफा नहीं देते हैं, तो मुख्यमंत्री को उन्हें हटाना चाहिए और इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। इस मामले में तभी कोई जांच सफल हो पाएगी, जब गृह मंत्री अपने पद से अलग होंगे। सबसे खेद वाली बात यह है कि परमवीर सिंह ने अपने पत्र में यह लिखा है कि उन्होंने यह सारी बातें उद्धव ठाकरे को बताई थीं। इसके बावजूद भी गृहमंत्री पर क्यों नहीं कार्रवाई हुई, इस पर भी सवाल उठता है।

सरकार में शामिल कांग्रेस ने भी देशमुख से इस्तीफा मांगा
मनसे नेता राज ठाकरे ने इसे महाराष्ट्र के नाम पर धब्बा बताया। उन्होंने कहा कि इससे महाराष्ट्र का नाम खराब हो रहा है। इस मामले की उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए। विपक्ष के साथ सरकार में शामिल कांग्रेस ने भी अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग की है। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने गृहमंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की है। अल्वी ने कहा कि देशमुख पर लगे आरोप गंभीर हैं, उन्हें गृहमंत्री के पद से तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए।

गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सोशल मीडिया पर दी सफाई
इस पर राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने खुद को बचाने के लिए झूठे आरोप लगाए हैं, क्योंकि मुकेश अंबानी और मनसुख हिरेन के मामले में अब तक हुई जांच में सचिन वाझे की संलिप्तता स्पष्ट हो रही है और इसके तार परमबीर सिंह से भी जुड़ रहे हैं।’

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,037FansLike
2,878FollowersFollow
18,100SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles