स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के उत्तराधिकारी: अब दो अलग-अलग पीठों के दो शंकराचार्य – विवरण यहाँ


शारदा पीठ द्वारका और ज्योतिर्मठ बद्रीनाथ पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का रविवार को 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया। मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर आश्रम में उनके अंतिम दर्शन के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत कई राजनेता उनके अंतिम दर्शन करने पहुंचे थे. स्वामी स्वरूपानंद के उत्तराधिकारी की भी घोषणा कर दी गई है। उनके दो उत्तराधिकारी होंगे, जो विभिन्न पीठों के शंकराचार्य होंगे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद को ज्योतिषपीठ बद्रीनाथ का मुखिया बनाया गया है और स्वामी सदानंद को शारदा पीठ द्वारका का प्रमुख बनाया गया है. शंकराचार्य के पार्थिव शरीर के सामने दोनों के नामों की घोषणा की गई। शंकराचार्य के निजी सचिव सुबोधानंद महाराज ने उत्तराधिकारियों के नामों की घोषणा की।

डॉक्टरों के मुताबिक स्वामी स्वरूपानंद की मौत दिल का मामूली दौरा पड़ने से हुई है. वह पिछले कई महीनों से बीमार चल रहे थे। स्वामी स्वरूपानंद के उत्तराधिकारी बनाए गए दोनों संतों ने दांडी स्वामी की उपाधि प्राप्त की है।

आपको बता दें कि शंकराचार्य बनने से पहले स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती भी दांडी स्वामी बने थे। उन्होंने दंड संन्यास में शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती से दीक्षा ली थी। उसके बाद उन्हें 1981 में शंकराचार्य की उपाधि मिली। उन्हें उत्तराखंड में ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य की उपाधि के लिए कानूनी लड़ाई भी लड़नी पड़ी। वह 1952 से 2020 तक लगातार प्रयागराज के कुंभ में जाते थे। कई बार उन्होंने तथाकथित नकली शंकराचार्यों का विरोध भी किया है।



Author: admin

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Posting....