डोमिनिका में मेहुल चोकसी की जमानत याचिका रद्द, वकील ने कहा- हाईकोर्ट जाएंगे

नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक (PNB Scam) में 13,500 करोड़ रुपये का घोटाला करके देश से फरार चल रहे मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) की जमानत याचिका डोमिनका कोर्ट में खारिज हो गई है. चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने अब हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही है. वहीं, चोकसी केस में आज फिर डोमिनिका कोर्ट में भारतीय समयानुसार शाम 6 बजे दोबारा सुनवाई होगी. आज कोर्ट साफ करेगी कि चोकसी को भारत प्रत्यर्पित किया जाएगा या उसे सीधे एंटीगा भेजा जाएगा.

इससे पहले मंगलवार को जस्टिस बर्नी स्टीफेंसन ने याचिका पर सुनवाई के लगभग तीन घंटे बाद मेहुल चोकसी को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने का आदेश जारी किया था. इसके बाद मामले की सुनवाई 3 जून के लिए टाल दी गई थी. मेहुल की याचिका में दावा किया गया था कि चोकसी का पड़ोसी देश एंटीगा और बारबुडा से अपहरण कर लिया गया था और जबरन डोमिनिका लाया गया था.

2018 से एंटीगा में रह रहा है चोकसी

23 मई को एंटीगा और बारबुडा से रहस्यमय तरीके से लापता होने वाला चोकसी यहां साल 2018 से एक नागरिक के रूप में रह रहा था. अपनी कथित प्रेमिका के साथ मेहुल डोमिनिका में अवैध तरीके से प्रवेश करने के लिए हिरासत में लिया गया था. दूसरी ओर चोकसी की पत्नी प्रीति ने कहा कि जिस महिला से पूछताछ की जा रही है वह उसकी प्रेमिका नहीं है. उन्होंने कहा कि महिला उसे जानती थी और उसके साथ घूमने जाती थी. प्रीति ने कहा कि जब चोकसी महिला से मिलने गए थे तभी भारतीय और एंटीगान जैसे दिखने वाले लोगों ने उसे अगवा कर लिया था.चोकसी के वकील का क्या है आरोप?

चोकसी के वकील ने आरोप लगाया कि उनके मुवक्किल को एंटीगा के जॉली हार्बर से अगवा किया गया और उसे करीब 100 नॉटिकल मील दूर एक नौका से डोमिनिका ले जाया गया. चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा, ‘ हमारा मानना है कि मेहुल चोकसी अवैध हिरासत में है, क्योंकि उसे 72 घंटे के अंदर मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाना था, जबकि ऐसा नहीं किया गया. इससे उनके रुख की पुष्टि हुई है.’

उन्होंने कहा, ‘जिस विषय की सुनवाई की जा रही है, वह बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका है, न कि भारत में उसे प्रत्यर्पित करने का विषय. उसकी नागरिकता का विषय अदालत के सामने नहीं है. मीडिया की विभिन्न खबरों के विपरीत भारत सरकार के बारे में कोई चर्चा ही नहीं हुई

डोमिनिका में व्हीलचेयर पर नजर आया मेहुल चौकसी

डोमिनिका में व्हीलचेयर पर नजर आया मेहुल चौकसी

फरार हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी (Mehul Choksir) पंजाब नेशनल बैंक (PNB Scam) में 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में भारत में वॉन्टेड है. भारत बेसब्री से कारोबारी के प्रत्यर्पण का इंतजार कर रहा है. यहां पढ़िए, मेहुल चोकसी केस में अब तक के अपडेट

नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक (PNB Scam) में 13,500 करोड़ रुपये का घोटाला करके देश से फरार चल रहे मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) की जमानत याचिका डोमिनका कोर्ट में खारिज हो गई है. चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने अब हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही है. वहीं, चोकसी केस में आज फिर डोमिनिका कोर्ट में भारतीय समयानुसार शाम 6 बजे दोबारा सुनवाई होगी. आज कोर्ट साफ करेगी कि चोकसी को भारत प्रत्यर्पित किया जाएगा या उसे सीधे एंटीगा भेजा जाएगा.

इससे पहले मंगलवार को जस्टिस बर्नी स्टीफेंसन ने याचिका पर सुनवाई के लगभग तीन घंटे बाद मेहुल चोकसी को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने का आदेश जारी किया था. इसके बाद मामले की सुनवाई 3 जून के लिए टाल दी गई थी. मेहुल की याचिका में दावा किया गया था कि चोकसी का पड़ोसी देश एंटीगा और बारबुडा से अपहरण कर लिया गया था और जबरन डोमिनिका लाया गया था.

2018 से एंटीगा में रह रहा है चोकसी

23 मई को एंटीगा और बारबुडा से रहस्यमय तरीके से लापता होने वाला चोकसी यहां साल 2018 से एक नागरिक के रूप में रह रहा था. अपनी कथित प्रेमिका के साथ मेहुल डोमिनिका में अवैध तरीके से प्रवेश करने के लिए हिरासत में लिया गया था. दूसरी ओर चोकसी की पत्नी प्रीति ने कहा कि जिस महिला से पूछताछ की जा रही है वह उसकी प्रेमिका नहीं है. उन्होंने कहा कि महिला उसे जानती थी और उसके साथ घूमने जाती थी. प्रीति ने कहा कि जब चोकसी महिला से मिलने गए थे तभी भारतीय और एंटीगान जैसे दिखने वाले लोगों ने उसे अगवा कर लिया था.चोकसी के वकील का क्या है आरोप?

चोकसी के वकील ने आरोप लगाया कि उनके मुवक्किल को एंटीगा के जॉली हार्बर से अगवा किया गया और उसे करीब 100 नॉटिकल मील दूर एक नौका से डोमिनिका ले जाया गया. चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा, ‘ हमारा मानना है कि मेहुल चोकसी अवैध हिरासत में है, क्योंकि उसे 72 घंटे के अंदर मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाना था, जबकि ऐसा नहीं किया गया. इससे उनके रुख की पुष्टि हुई है.’

उन्होंने कहा, ‘जिस विषय की सुनवाई की जा रही है, वह बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका है, न कि भारत में उसे प्रत्यर्पित करने का विषय. उसकी नागरिकता का विषय अदालत के सामने नहीं है. मीडिया की विभिन्न खबरों के विपरीत भारत सरकार के बारे में कोई चर्चा ही नहीं हुई.’

बुधवार की सुनवाई में क्या हुआ?

बुधवार की सुनवाई के दौरान चोकसी डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल से वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मौजूद था. जबकि उसके वकील अदालत में थे. चोकसी व्हीलचेयर पर नीली टी-शर्ट और काले रंग की शॉर्ट्स में मजिस्ट्रेट के सामने पेश हुआ. जज ने अधिकारियों से कहा कि वह चोकसी को भी कानूनी कार्यवाही के कागजात सौंपें.

उसके वकीलों ने कहा कि चोकसी पुलिस हिरासत में सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं और उन्हें वापस एंटीगा और बारबुडा भेज दिया जाना चाहिए. स्थानीय मीडिया के अनुसार वकीलों ने यह भी कहा कि चोकसी अपनी सुरक्षा के लिए भुगतान करेंगे. वकीलों ने चोकसी के शरीर पर पाए गए चोट के निशान का मुद्दा उठाया.

अगर अदालत चोकसी के खिलाफ आदेश देती है तो उसके पास हाईकोर्ट में अपील करने का विकल्प है. पिछले हफ्ते डोमिनिका सरकार ने एक प्रेस बयान जारी कर कहा था कि वह एंटीगा और बारबुडा के साथ चोकसी की नागरिकता की स्थिति के बारे में जानकारी ले रही है.

एंटीगा-बारबुडा और डोमिनिका की राजनीति में हलचल

दूसरी ओर चोकसी की गिरफ्तारी ने एंटीगा और बारबुडा और डोमिनिका की राजनीति में हलचल पैदा कर दी है. यहां विपक्षी दलों पर आरोप लगाया गया है कि उसके कई नेता मेहुल का समर्थन कर रहे हैं. डोमिनिकन विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन को मेहुल चोकसी के भाई चेतन चोकसी से मिलने या उनसे कोई पैसा लेने की खबरों पर खंडन करना पड़ा.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,037FansLike
2,878FollowersFollow
18,100SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles